Hindi Grammar PDF:[हिन्दी व्याकरण] PDF Download

Hindi Grammar PDF, हिन्दी व्याकरण बुक PDF Download एक बेहतरीन हिन्दी ग्रामर नोट्स लेकर आए है। आज इस पोस्ट मे हम हिन्दी ग्रामर नोट्स लेकर आए हैं। जो की बहुत ही महत्वपूर्ण है। अगर आपलोग किसी भी प्रतियोगी परीक्षाओ की तैयारी कर रहे है। तो आपको इस बुक को एकबार जरुर पढना चाहिएं। क्योकी हर परीक्षा में “Hindi Grammar PDF Download”Questions Exam में पूछे जाते है। तो आपलोग नीचे दिए गए Download Button पर क्लिक करके आसानी से इस बुक को Download कर सकते हैं।

Hindi Grammar Book PDF

Hindi Grammar PDF: हिन्दी व्याकरण PDF [Download]

दोस्तो जैसा की आपलोगो को पता ही होगा पर हम आपको बता दे की इस बुक के अन्दर क्या क्या है।और यह सभी टाँपिक काफी महत्वपूर्ण हैं। तो आपलोग नीचे दिए गए जानकारी को ध्यान पूर्वक पढले जिससे आपको पता चल जाए की आपको क्या पढना है। और नीचे दिए गए लिंक के माध्यम से आपलोग Hindi Grammar PDF डाउनलोड कर सकते हैं।देखिए दोस्तो हिन्दी ग्रामर के बिना कोई भी पढाई पूरी नही हैं। अगर हर परीक्षा में कई Subject Important हैं। वैसे ही हिन्दी ग्रामर बुक भी काफी महत्वपूर्ण है आपलोगो को इसमे काफी टाँपिक मिल जाएगे इसमे आपको ग्रामर की पूरी जानकारी मिल जाएगी।

  1. हिन्दी भाषा का विकास
  2. हिन्दी भाषा का विकास क्रम
  3. हिन्दी की भाषा, उपभाषा तथा बोलियाँ
  4. हिन्दी हमारी राष्ट्रभाषा
  5. राष्ट्र भाषा होने के लिए शर्तें
  6. भारत की राजभाषाएँ
  7. हिन्दी की विभाषा
  8. हिन्दी साहित्य
  9. काव्य और महाकाव्य
  10. महाकाव्य के आधुनिक नियम
  11. गद्य काव्य और पद्य  काव्य
  12. काव्य के प्रकार
  13. काव्य के भेद
  14. आदिकालीन रचना और रचनाकार
  15. विभिन्न काल
  16. हिन्दी साहित्य की विकास यात्रा
  17. हिन्दी साहित्य के विभिन्न के कालों के रचनाकारों के नाम

Hindi Grammar PDF Download

  • वर्ण
  • स्वर
  • व्यंजन
  • संज्ञा
  • वजन
  • कारक
  • सर्वनाम
  • विशेषण
  • क्रिया
  • काल
  • वाक्य
  • उपसर्ग
  • प्रत्यय
  • संधि
  • समास
  • अलंकार
  • शब्द
  • तत्सम एवं तत्भव
  • हिन्दी वर्णमाला
  • भाषा
  • लिपी और व्याकरण
  • काल
  • समास
  • अलंकार
  • पर्यायवाची
  • विलोमशब्द
  • सम्बन्धबोधक
  • मुहावरे
  • निबंध
  • रस
  • छंद
  • खडी बोली
  • और भी बहुत कुछ

व्याकरण की परिभाषा- व्याकरण वह विद्या है, जिसके द्वारा हमे किसी भाषा का शुद्ध बोलना, लिखना एवं समझना आता है। या दूसरे शब्दों में कहे तो …. व्याकरण वह शास्त्र है, जिसके द्वारा भाषा का शुद्ध मानक रूप निर्धारित किया जाता है।

व्याकरण के प्रकार:- व्याकरण निम्न प्रकार की होती है…

(1) वर्ण या अक्षर के आधार पर
(2) शब्द के आधार पर
(3)वाक्य के आधार पर

व्याकरण के अंग:- व्याकरण के तीन अंग हैं…

(1) ध्वनि-विचार (2) पद-विचार (3) वाक्य-विचार

संज्ञा और इसके भेद

संज्ञा- किसी का नाम ही उसकी संज्ञा है, इससे ही वह जाना जाता है या व्याकरण की भाषा में कहें तो…

किसी व्यक्ति, वस्तु स्थान या भाव के नाम को भी संज्ञा कहते है।

संज्ञा के उदाहरण:- श्याम, कुर्सी, कलम, गंगा, इत्यादि।

  1. व्यक्तिवाचक संज्ञा (Proper Noun)– व्यक्तियों के नाम, समुद्रो के नाम, दिशाओं के नाम, देशों के नाम, नदियों के नाम इत्यादि।
  2. जातिवाचक संज्ञा (Common Noun)- सम्बन्धियों, व्यवसायों पदों और कार्यो के नाम, पशु-पक्षियों के नाम इत्यादि।
  3. भाववाचक संज्ञा (Abstract Noun)– कठोरता,बुढापा, लड़कपन, ममता इत्यादि।
  4. द्रव्यवाचक संज्ञा (Material Noun)– दूध, दही, पनीर, तेल, सोना, चाँदी, इत्यादि।
  5. समूहवाचक संज्ञा (Collective Noun)– कक्षा, सेना, भीड़, मण्ड़ली, गिरोह, सभा इत्यादि।

सर्वनाम के भेद

सर्वनाम के छह प्रकार के भेद हैं-

  1. पुरुषवाचक (व्यक्तिवाचक) सर्वनाम।
  2. निश्चयवाचक सर्वनाम।
  3. अनिश्चयवाचक सर्वनाम।
  4. संबन्धवाचक सर्वनाम।
  5. प्रश्नवाचक सर्वनाम।
  6. निजवाचक सर्वनाम।

Download Hindi Grammar PDF 

हिन्दी ग्रामर डाउनलोड

General Hindi Objective PDF Download

Hindi Grammar Video Analysis

More Details : https://hi.wikipedia.org/wiki/हिन्दी_व्याकरण

इसे भी जरुर पढें-

तो दोस्तो कैसी लगी हमारी यह Hindi Grammar PDF की पूरी जानकारी हिन्दी में मुझे आशा होगी की आपको यह बुक पसन्द आई होगी अगर आपको इसी से सम्बन्धित और भी कुछ जानकारी या अन्य कोई भी जानकारी चाहिए तो नीचे दिए गए Comment Box  के माध्यम से सूचना पहुचाँ सकते हैं।

Leave a Comment

3 Comments

error: Content is protected !!